You are currently browsing the monthly archive for March 2011.

मुंबई में जिदंगी को, कितना व्यस्त और बेदर्द बनना पड़ता है। यहां किसी की मौत भी दिल को नहीं झिंझोड़ पाती। ऐसा ही हुआ… एक दिन सुबह चंडीगढ़ जाना था, Flight पकड़नी थी… Building से नीचे उतरते ही देखा तो सामने एक लाश पड़ी थी… कोई मर गया था, या कोई मार के फेंक गया था… लेकिन आसपास किसी को कोई परवाह नहीं थी। इडली वाली इडली बेच रही थी, खाने वाले खा रहे थे, रिक्शे वाले अपने ग्राहकों का इंतज़ार कर रहे थे… और मैं मरने वाले की चिंता में नहीं, मिलने वाले Traffic की चिंता में चिंतित, रिक्शे में बैठकर चल दिया… लेकिन अपने दिल की भावनाओं को इस कविता में व्यक्त करता रहा, जब तक Airport नहीं आ गया… शायद आपको अच्छी लगे…!!

लाश पड़ी फुटपाथ पे, न ठीका न ठौर,

मुर्दो के इस शहर में, चलो मरा एक और !!

चलो मरा एक और किसी को कहां पड़ी है
धनवानों के बीच, कफन बिन लाश पड़ी है !!

लाश ही बनना था तो, क्यूं इस शहर में आया

ये सूरज खाऊ भवन, न देंगे तुझको छाया…!!

तेरी मैय्यत के पीछे, मैं क्यूं छोड़ूं धंधा…

खुदगर्जों के बीच में साला ढूंढ रहा है कंधा…!!

कंधे को तो यहां चूतिए, बाप तरस जाते हैं…

अब तो कंधे रोने के भी काम कहां आते हैं…!!

काम हुआ न जीते जी, वो अब मरने पे होगा

मुर्दाघर ही सही, शहर में तेरा घर तेा होगा…!!

तुझको भी इस शहर में वैसे, अच्छा मान मिला 

जीने तक फुटपाथ मिला, मर के कब्रिस्तान मिला !!

अब जीने की ख्वाहिश हो, तो अपने घर जाना

आंचल, आंगन, ऊंगली, कंगन छोड़ यहां न आना…!!

पेट भले भर लेगा तू, पर दिल तो वहीं भरेगा…

वर्ना कहीं किसी कोने में, लावारिस ही मरेगा…!!  
  

© RD Tailang 2011.

Advertisements
March 2011
M T W T F S S
« Dec   Sep »
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031  

Chat-Pat

  • @DeShobhaa @TawdeVinod Ms Shobhaa De, you are re tweeting August tweet of the minister and creating more confusion. Plz check latest info. 1 hour ago
  • RT @virendersehwag: Har kisi ko safai mat do , aap insaan ho , washing powder nahin ! 2 days ago
  • Flight में हिंदी में instructions उसी तरह दिए जाते हैं, जैसे udipi hotel में waiter खाने का menu बताते हैं ... 1 week ago
  • Am I the only person who is in Patiyala and not having Patiyala peg ..😄 1 week ago
  • Records breaking or making rules do not apply on some things, their presence itself creates a record. KBC is among them. #kbc9 1 week ago

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 5 other followers