गाजर का हलवा बड़ा स्वादिष्ट होता है.. इसको खाने में बड़ा मज़ा आता है.. लेकिन अगर आप देश के चार महानगरों में नहीं रहते हैं, तो गाजर का हलवा सिर्फ ठंड के मौसम में, यानि नवंबर से लेकर मार्च तक ही बनाया और खाया जा सकता है..। जिस तरह गाजर के हलवे का एक मौसम होता है, ठीक उसी गाजर मूली की तरह हमारे देश में मौसम आता है, Awards का..।  इस मौसम में, दीवाली से लेकर होली तक, देश में इतने सारे Awards बंटते हैं, जितने पूरी दुनिया में पूरे साल भर भी नहीं बांटे जाते होंगे..। टेलीविज़न पर इन तीन चार महीनों में मज़ाल है कोई ऐसा Sunday आ जाए, जिस दिन शाम को कोर्ई Awards न आ रहा हो.. और जिन Channels में कोई Awards नहीं आ रहा होता है, वो Awards से इतना प्यार करते हैं, कि पुराने, पिछले साल का Awards ही फिर से दिखा देते हैं..। TV पर Awards के इसी प्रेम से प्रेरित होकर, आईए हम आपको बताते हैं, कि कैसे बनते हैं ये Awards..

 

सामग्री :  

भारत में Awards बनाने वाले कई हलवाई बाज़ार में बैठे हैं। जिस हलवाई का जितना बड़ा नाम, उसका award भी उतना बड़ा..। लेकिन Award बनाने वालों की List में शामिल होने के लिए ये जानना सबसे ज़रूरी है, कि आपसे कोई Award क्यूं ले। इसके लिए, या तो आप कोई अखबार के मालिक हों, या फिर फिल्मी गपोड़वाज़ी वाली पत्रिका निकालते हों.. या फिर किसी ऐसे Channel को चलाते हों, जिसकी TRP अच्छी खासी हो.. या फिर कोई ऐसी गुटखा कंपनी चलाते हों, जिसके लिए कई फिल्मी सितारे विज्ञापन करते हों।

 

दूसरी सामग्री जो Awards बनाने के लिए चाहिए वो है, Award Functions की पहली Line में बैठने वाले कुछ कुछ अच्छे चेहरे। इसमें अमिताभ बच्चन का होना बहुत ज़रूरी है, और उनके आसपास ही कहीं दूसरी या तीसरी Row में रेखा का बैठना भी आवश्यक है, क्योंकि जिस Channel पर ये Awards Show आने होते हैं, उसको अमिताभ की बात पे, रेखा का, और रेखा की बात पे अमिताभ का Rection दिखाने की बड़ी पुरानी और गंदी आदत होती है। वैसे कुछ लोगों ने आजकल शाहरूख खान और प्रियंका चोपड़ा से भी काम चलाना शुरू कर दिया है.. ।

 

इसके अलावा एक बहुत ज़रूरी सामग्री है, Lifetime Achievement Awards की। कायदे से तो ये सम्मान उस पुराने कलाकार को मिलना चाहिए, जिसने फिल्मी जगत में अपना बहतरीन योगदान दिया हो, ताकि ऐसे कलाकार का परिचय आज की पीढ़ी से हो सके, वो भी उसके योगदान से रूबरू हो सके। लेकिन इस तरीके ये पूरा Segment बड़ा उबाऊ सा हो जाता है, और लोगों के Channel बदलने का खतरा सर पर मंडराता है।  इसलिए हमारे Award बनाने वाले हलवाईयों ने इसका एक नया तरीका निकाला है..। ये Awards वो किसी ऐसे पापा, मम्मी, चाचा या daddy को देते हैं, जिनके बेटे या बेटी, इस वक्त सफल् हैं..। इस “Celebrity Daddy या Mummy” वाले एक “तीर” से कई शिकार हो जाते हैं। एक तो वो Hero खुश हो जाता जिसके daddy को ये Award मिलता है, और वो खुश होकर, free में या कम पैसों में dance कर देता है। इसके अलावा Hero अपने पापा के लिए एक Emotional Speech भी दे देता है, जो Channel में कई दिन तक Promo moment का काम करती है। फिर कोई माई का लाल ये सवाल भी नहीं कर सकता कि ‘भई इनसे भी बड़े बड़े दिगज्ज पड़े हैं, उनको ये Award क्यों नहीं, और पापाजी को ये Award क्यों..?’ और आखिर में, पापाजी के सम्मान में भले कोई चाहे न चाहे, लेकिन बेटा जी के सम्मान की खातिर सब लोग खड़े हो जाते हैं, जिससे ये आभास होता है, कि देखा Industry हमारे पुराने लोगों का कितना सम्मान करती है.. और standing ovation देती है.. ।

 

अब एक और जो सबसे बड़ी ज़रूरी सामग्री चाहिए, वो है Host. ये Host ऐसे होने चाहिए जिन्होंने भले ही आजतक कोई Functions host न किया हो, लेकिन इनकी कोई फिल्म ज़रूर पिछले 2-3 महीनों में आई हो। ये भले दो Line पढ़कर भी ठीक से न बोल पाएं, लेकिन इन्हें Comedy करना आना चाहिए.. जी हां, हमारे देश में Awards Function Comedy Circus या नौटंकी से कम नहीं होते। ये Host किसी भी रूप में आ सकते हैं, ये महिला बन कर आ सकते हैं, ये कोई Character बनकर भी आ सकते हैं। Host जितनी उटपटांग हरकते Stage पर करेंगे, Award Functions की शोभा में उतने ही चांद लगते जाएंगे। 

 

Award बनाने का तरीका

सामग्री के बाद, आईए हम आपको इन Awards को बनाने की विधि बताते हैं।

सबसे पहले एक किसी ऐसे Writer को पकड़िए, जिसकी Comedy पर अच्छी पकड़ हो..। इस Writer की सहायता से, एक ऐसी चटपटी मसालेदार Script तैयार करवाईए जिसमें फिल्मों की, खासतौर से Flop फिल्मों और उसके actors की जमकर Insult की गई हो.. (चिंता मत करिए, awards का भले इन बातों से कोई लेना देना न हो, लेकिन हमारे यहां awards इसी तरह पेश किए जाते हैं।) इन Insulting बातों को लेकर, stage पर किसी से कहासुनी बहस या लड़ाई झगड़ा हो जाता है, तो ये कोई समस्या नहीं, बल्कि फायदे की बात है.. क्योंकि ये तो उत्तम TRP की Gurantee है।

 

अब इस Script को Hosts के साथ मिलकर खूब पकाईए.. इतनी पकाईए कि अगर ये पकाऊ भी हो जाए, तो कोई नुकसान नहीं..। अगर Award Functions के Boring Jokes पर कोई नहीं हंस रहा है तो चिंता करने की जरूरत नहीं, क्योंकि बाद में इनके पीछे Stock Laughter Track यानि गोदाम में पड़ी हुई हंसी की पुरानी Recording बजा दीजिए, देखने वाले दर्शक को ये लगेगा कि पूरी Industry हंस हंस के लोटपोट हो रही है, शायद ये Joke उसे ही समझ में नहीं आया।

 

Award को बनाते समय इस बात का ध्यान रखना ज़रूरी है, कि हो फिल्मी हस्तियां इसे देखने आएं, वो कम से कम 5 Min ज़रूर बैठें..। क्योंकि उनके 5 Min के shots की Recording को आप पूरे तीन घंटे बार बार इस्तेमाल कर सकते हैं। शायद इसीलिए, आपके अक्सर देखा होगा कि TV पर अमिताभ बच्चन, जो ताली Shahrukh Khan के dance के लिए बजाते हैं, वही ताली Yash Chopra के Lifetime achievement Award के लिए भी काम आती है। 

    

अब सबसे ज़रूरी बात, आप ये तय कर लीजिए, कि आप awards उन हस्तियों को ज़रूर दें जो आए हैं, यदि उन्होंने कोई award नहीं भी जीता है, तो कोई ऐसी category बना दें, जिसमें उनकेा award मिल जाए.. वर्ना अगली बार आप अपने award में उनके पधारने की आशा मत कीजिए..।

 

आखिर में, भले खर्चा ज़्यादा हो जाए, लेकिन ये ज़रूर तय कीजिए कि आपके Awards में कोई Super star ज़रूर ठुमका लगा रहा हो.. क्योंकि इस सुपरस्टारी ठुमके के कई फायदे हैं। पहला फायदा तो आपके awards को एक नाम मिल जाता है, कि “भई उसमें तो फलां फलां नाच रहा है, ज़रूर कोई बात होगी”। दूसरी बात इस सुपरस्टारी ठुमके के कारण आपको किसी main channel पे अपना कार्यक्रम बेचना आसान हो जाएगा और कीमत भी अच्छी मिल जाएगी.. और तीसरी बात ये कि आप इस सुपरस्टार को आखिर में नचवाएंगे, इसलिए सारी Industry तब तक जमकर बैठी रहेगी, कि कहीं हमारे सुपरस्टार साहब बुरा न मान जाएं..।

 

ये कुछ नुख्से हैं, जिनकी सहायता से आप इस देश में एक अच्छा सा, टिकाऊ सा, और बिकाऊ सा award show बना सकते हैं। आशा है, मेरी इस जानकारी से, इस देश की हर गली, मोहल्ले और घरों में कुछ नए नए awards का जन्म होगा, जो हमें आने वाले भविष्य में TV पर देखने को मिलेंगे..। 

  

RD Tailang

Mumbai

 

  

Advertisements